क्या Nepotism का शिकार हुए थे सुशांत सिंह राजपूत ? क्या है ये Nepotism, आखिर क्यों हो रहा है बॉलीवुड में इस पर विवाद !

सुशांत सिंह राजपूत की मौत के बाद बॉलीवुड में एक लहर फिर से चल गई है, Nepotism की… आखिर क्यों एक्टर्स अपना दुख बयां कर रहे है ? क्या है ये Nepotism जिसकों लेकर कंगना राणावत का वीडियो, शेखर कपूर के ट्वीट और अभिनव भट्ट द्वारा किए गए सोशल मीडिया पोस्ट से लोगों के बीच बॉलीवुड में नेपोटिज्म वाले मुद्दे को फिर हवा दे दी है। तो आइए जानते है फीडबाबा के जरिए से इनके बारे में…

क्या है नेपोटिज़्म ?

सुशांत सिंह राजपूत की आत्महत्या के बाद से ही बॉलीवुड में नेपोटिज्म की चर्चा फिर शुरू हो गई है। जहां एक ओर सुशांत सिंह राजपूत की पोस्टमार्टम रिपोर्ट से साफ हो गया है, कि उन्होंने आत्महत्या की बात, वहीं दूसरी ओर डिप्रेशन की वजह को भी खंगाला जा रहा है।

नेपोटिज़्म का मतलब का भाई-भतीजावाद… नेपोटिज़्म दोस्तवाद के बाद आने वाली एक राजनीतिक शब्दावली है जिसमें योग्यता को नजरअदांज करके अयोग्य परिजनों को उच्च पदों पर आसीन कर दिया जाता है।

पिछले 35 वर्षों से बॉलीवुड और मीडिया इंडस्ट्री में काम कर रहे नरेंद्र गुप्ता के अनुसार बॉलीवुड में नेपोटिज्म है और सुशांत भी नेपोटिज्म का शिकार हुए हैं। नरेंद्र गुप्ता ने बताया बॉलीवुड में कुछ कैंप है, जो कि रूल करते हैं। अगर उनके मन का हुआ तो अच्छा वरना जो भी उनके विरोध में जाता है उसके खिलाफ ये सब एक हो जाते हैं।  सुशांत के केस में भी ऐसा ही कुछ हुआ है यह नजर आता है कि फिल्म छिछोरे के बाद सुशांत के पास 6-7 फिल्में थीं जिसमें से धीरे-धीरे करके सारी फिल्में उनके हाथों से निकल गई, फिलहाल कोई भी फिल्म सुशांत की फ्लोर पर नहीं थी।

बॉलीवुड में सब एक दूसरे के साथ जुड़े होते हैं, कोई किसी से पंगा नहीं लेना चाहता और एक दूसरे की बात मानते हैं। अगर कोई एक दूसरे को कह दे कि इस एक्टर के साथ काम नहीं करना है, तो बाकी सभी लोग हाथ पीछे कर लेते हैं, क्योंकि प्रोडक्शन से लेकर डिस्ट्रीब्यूशन, चैनल राइट, म्यूजिक, म्यूजिक राइट दिलवाने के अलग-अलग स्टेज होते हैं। जिसमें घूम फिर कर सभी लोग इंवॉल्व होते हैं।

सुशांत सिंह राजपूत का काम बढ़िया चल रहा था, लेकिन ‘छिछोरे’ फिल्म के बाद उनकी फिल्म ‘ड्राइव’ का सीधे ओटीटी प्लेटफॉर्म पर जाना उन्हें काफी मायूस कर गया। यह फिल्म करण जौहर की थी। उसके बाद ‘दिल बेचारा’ फिल्म का भी बुरा हाल हुआ। ‘पानी’ फिल्म जो कि शेखर कपूर का एक जबरदस्त प्रोजेक्ट था उसे भी फंडिंग नहीं मिल पा रही थी। इसकी वजह से काम रुक गया। सुशांत सिंह ने ‘पानी’ फिल्म के लिए कई सारे प्रोजेक्ट्स को छोड़ा था ये सारी चीजें उन्हें डिप्रेशन में ले गईं। ऐसे में पिछले कई महीनों से काम के लिहाज से उनके पास कुछ भी नहीं था और लाइफ स्टाइल को मेंटेन करना भी एक बड़ी दिक्कत है।

शेखर कपूर ने कहा

बीतेसोमवार को फिल्म मेकर शेखर कपूर ने अपने एक ट्वीट में लिखा, पिछले 6 महीने में सुशांत के साथ ऐसा कुछ हुआ था कि वे टूट गए थे। “मैं जानता हूं कि तुम किस दर्द से गुजर रहे थे। मुझे पता है उन लोगों की कहानी, जिन्होंने तुम्हे इतना निराश किया कि तुम मेरे कंधे पर सिर रखकर रोते थे। काश पिछले 6 महीने में मैं तुम्हारे आसपास होता। काश तुम मुझ तक पहुंच गए होते। तुम्हारे साथ जो हुआ, वह उनके कर्मों का फल है, तुम्हारे नहीं।”

अशोक पंडित ने शेखर से किए सवाल

फिल्म मेकर अशोक पंडित ने शेखर पर एक सवाल खड़ा कर दिया और कहा कि अगर शेखर सुशांत की मौत के जिम्मेदारों को जानते हैं तो उनका नाम क्यों नहीं बताते ?

शेखर ने दिया जवाब

फिल्म मेकर अशोक पंडित को शेखर ने ट्वीट कर दिया जबाव और कहा, कुछ लोगों का नाम लेने का कोई मतलब नहीं। वे अपने आप में प्रोडक्ट हैं और सिस्टम के शिकार हैं। सभी विरोध कर रहे हैं। अगर वाकई परवाह है, अगर आप वाकई गुस्से में हैं तो सिस्टम को नीचे लाइए। किसी एक को नहीं। यह गुरिल्ला युद्ध है। गुस्से का प्रकोप नहीं।

सपना भवनानी ने जाहिर किया अपना गुस्सा

सुशांत सिंह राजपूत की हेयर स्टाइलिस्ट सपना भावनानी ने अपने ट्वीट में यह खुलासा किया था कि पिछले कुछ सालों से सुशांत जिंदगी के मुश्किल दौर से गुजर रहे थे। उन्होंने बॉलीवुड पर गुस्सा ज़ाहिए करते हुए कहा, इंडस्ट्री से कोई भी उनके साथ खड़ा नहीं हुआ और न ही किसी ने मदद के हाथ बढ़ाए। आज उनके बारे में की गई पोस्ट यह दिखाती है कि इंडस्ट्री वाकई कितनी उथली है। यहां कोई आपका दोस्त नहीं है।

रणवीर शौरी ने भी किया ट्वीट

रणवीर शौरी ने अपने ट्वीट के जरिए कहना चहा कि सुशांत नेपोटिज्म की मार झेल रहे थे। साथ ही उन्होंने लिखा, उन्होंने (सुशांत) जो कदम उठाया, उसके लिए किसी और को दोषी ठहराना ठीक नहीं होगा। वे हाई स्टेक्स गेम खेल रहे थे, जिसमें जीतना था या सबकुछ हार जाना था, लेकिन बॉलीवुड के इन स्वघोषित गेट कीपर्स के बारे में कुछ कहना होगा।

सुशांत का पुराना वीडियों

एक पुराना वीडियो सामने आया है जिसमें सुशांत सिंह राजपूत कहते हैं, ‘भाई-भतीजावाद हर जगह है। यदि आप जानबूझकर सही प्रतिभा को सामने नहीं आने देते हैं, तो एक समस्या है।’ ट्विटर पर उस वीडियो को साझा करते हुए, अभिनेता-राजनेता प्रकाश राज पूछते हैं कि क्या ‘अब कोई भी फिल्म उद्योग में भाई-भतीजावाद का अभ्यास करेगा।’

सुशांत की मौत को एक वेक-अप कॉल कहते हुए अभिनेता विवेक ओबेरॉय ने ट्विटर पर कहा कि उनकी यात्रा ‘अंधेरे और एकाकी’ थी, लेकिन उन्होंने इसके माध्यम से संघर्ष किया।’

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

%d bloggers like this: