क्या है कोविड-19 ? कोविड-19 जैसी संक्रमित बीमारी आखिर क्यों फैल रही हैं ?

कोरोना वायरस आखिरी क्या है ? आखिर क्यों पूरी दुनिया में इस वायरस से हाहाकार मचा हुआ है ? चीन के वुहान से निकला पूरी दुनिया में फैला कोविड-19 ने पूरे विश्व में हलचल मचा दी है। बता दें, यह कोरोना वायरस फैमिली का विस्तार है। यह वायरस बेहद खतरनाक है और पूरी दुनिया में लगभग 4.32 लाख लोगों की मौत हो चुकी है।

क्या है कोरोना वायरस ?

कोरोना वायरस एक संक्रामक बीमारी है जिसका पता दिसंबर 2019 में चीन में चला। जब चीन में इसका पहला मामला सामने आया तो इसे कोरोना वायरस फैमिली के विस्तार के रूप में जाना गया। वैज्ञानिकों ने आखिरकार इस विस्तार का नाम 2019-nCoV दिया। 2019 इसलिए क्योंकि वह उस साल पैदा हुआ। नया वायरस होने से नोवेल और कोरोना फैमिली से होने पर CoV नाम दिया गया। इस तरह कोविड-19 कोरोना वायरस डिजिज 2019 के नाम से जाना जाने लगा।

बता दें, कोरोना वायरस कई तरह के होते है, इनमें से ज्यादातर सुअरों, ऊंटों, चमगादड़ों और बिल्लियों समेत अन्य कई जानवरों में पाए जाते हैं, लेकिन कोविड-19 जैसे कम ही ऐसे वायरस हैं जो मनुष्यों को प्रभावित करते हैं।

कोरोना के लक्षण

कोरोना वायरस के मामले भारत में बड़ी तेजी से बढ़ते जा रहे है। कोविड-19 के सबसे ज्यादा मामलों की लिस्ट में भारत चौथे स्थान पर पहुंच गया है। इसी बीच भारत सरकार के स्वास्थ्य मंत्रालय ने दो नए लक्षणों को कोरोना की लिस्ट में शामिल किया है। स्वास्थ्य मंत्रालय ने बीते शनिवार को बताया, सूंघने और स्वाद पहचानने की क्षमता खोना कोरोना के प्रमुख लक्षण हैं।

कोरोना के प्रमुख लक्षण बुखार, खांसी, थकान, सांस लेने में दिक्कत, बलगम, मांसपेशियों में दर्द, गले में खराबी आदि है। WHO ने कहा था, एसिम्प्टोमैटिक मरीजों से कोरोना का संक्रमण फैलने का खतरा सिर्फ 6 प्रतिशत है। WHO के अधिकारी ने बताया, कोविड-19 एक रिस्पिरेटरी डिसीज़ है जो खांसते या छींकते वक्त बाहर आए ड्रॉपलेट्स से फैलती है। यदि सिर्फ सिम्प्टोमैटिक रोगियों पर ध्यान दिया जाए, उन्हें आइसोलेट किया जाए, संपर्क में आए लोगों को देखें और उन्हें भी क्वारनटीन करें तो इसका खतरा काफी हद तक कम हो सकता है।

%d bloggers like this: