यूपी के मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ की अध्यक्षता में सोमवार को उनके सरकारी आवास पर हुई बैठक में राज्य विश्वविद्यालयों की परीक्षाओं के संबंध में गठित कमेटी की रिपोर्ट पर विचार किया गया। जिसमें कमेटी ने सिफारिश की, कि परीक्षाएं निरस्त कर विद्यार्थियों को अगली कक्षाओं में प्रोन्नत करें।

सूत्रों के मुताबिक, सरकार कमेटी की रिपोर्ट पर सहमत है, लेकिन इस पर अंतिम फैसला 2 जुलाई को लिया जाएगा। उप मुख्यमंत्री डॉ. दिनेश शर्मा ने कहा, 1 जुलाई को जारी होने वाली केंद्र सरकार के मानव संसाधन विकास मंत्रालय की गाइड लाइन देखने के बाद 2 जुलाई को फैसला लिया जाएगा।

चार सदस्यीय कमेटी ने की सिफारिश

चौधरी चरण सिंह विश्वविद्यालय मेरठ के कुलपति प्रो. एनके तनेजा की अध्यक्षता में गठित 4 सदस्यीय कमेटी ने राज्य विश्वविद्यालयों की प्रस्तावित परीक्षाएं निरस्त करने की सिफारिश की है। साथ ही कमेटी ने विद्यार्थियों को अगली कक्षाओं में प्रोन्नत करने की भी बात रखी है। बैठक में उच्च शिक्षा के साथ-साथ बेसिक शिक्षा और माध्यमिक शिक्षा से जुड़े विषयों पर भी विचार-विमर्श किया गया।

बैठक में बेसिक शिक्षा परिषद के स्कूल 1 जुलाई से खोलने के फैसले पर सहमति जताई गई है। यानि की प्राथमिक शिक्षकों को 1 जुलाई से स्कूल जाना होगा। मगर इस दौरान स्कूल में कोई भी बच्चे नहीं आएंगे। शिक्षकों को पाठ्यक्रम संबंधी और अन्य प्रशासनिक काम को पूरा करना होगा। वहीं दूसरी ओर ऐसे समय में दिव्यांग और गर्भवती महिला शिक्षकों को राहत देने का सुझाव भी सामने आया।

बैठक में बताया गया कि माध्यमिक और उच्च शिक्षा के कॉलेजों को 6 जुलाई से खोलने पर अभी विचार किया गया। इस बारे में फैसला भी 2 जुलाई को ही होगा। 1 जुलाई को जारी होने वाली केंद्र सरकार की गाइड लाइन देखने के बाद सरकार कोई फैसला लेगी।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *